बेबाक मीडिया : शयनकक्ष में तब्दील सिमरी का डी.एस.एस.वी. कॉलेज

एक तरफ जहां भारत को विश्व गुरु बनाने की बात होती है तो वहीं दूसरी तरफ जिनके ऊपर यह दायित्व है वही गुरु शिक्षालय को निद्रालय बनाकर बच्चों के सामने ही गहरी नींद में सोते हुए पाए जाते हैं.
गौरतलब है कि लाखों की आबादी वाले जिले के सिमरी प्रखंड अंतर्गत प्रखंड दियारा अंचल का एकमात्र महाविद्यालय जहां ग्रेजुएशन तक की पढाई की व्यवस्था है परंतु सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं है.
बात हो रही है दंडीस्वामी सहजानंद संत विनोवा महाविद्यालय सिमरी की. जहां ग्रेजुएशन में पढ़ने वाले कुछ छात्रों ने बेबाक मीडिया से बातचीत के संदर्भ में अपनी आपबीती सुनाते हुए बताया कि यहाँ हर काम में घोर अनियमितता बरती जाती है. छात्रों की शिकायत पर बेबाक मिडिया के रिपोर्टर जब लगभग 11.30 बजे महाविद्यालय के कार्यालय में पहुंचे तो कर्मचारियों को सोते हुए देखकर दंग रह गए.
जगाने के बाद भी जब दोनों कर्मचारी नहीं जागे तब वह फोटो लेकर वापस घर लौट गए.
छात्रों ने यह भी बताया कि एक ही विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले 2 महाविद्यालयों के शुल्कों में भी काफी असमानता है . सिमरी के एक अन्य कालेज की अपेक्षा डी.एस.एस.वी. कालेज में नामांकन शुल्क एवं परीक्षा शुल्क भी दुगना देना पड़ता है जो कि सरासर अन्याय है एक तो पहले से ही बिहार की शिक्षा व्यवस्था कोमा में है उसपर इस कालेज के कर्मियों की मनमानी से छात्रों का भविष्य अंधकारमय है.

शिक्षा विभाग को इस पर तुरंत कार्रवाई कर छात्रों को न्याय दिलाना चाहिए क्योंकि आज के छात्र ही कल के भविष्य है.

रिपोर्टर : कुमार सोनू (बेबाक मीडिया)

Comments